Print

सक्षम जलमार्ग का विकास

ब्रह्मपुत्र (राष्ट्रीय जलमार्ग-I) और बराक (शीघ्र ही राष्ट्रीय जलमार्ग-VI के रूप में घोषित किया जाने वाली) जिन्हें भारतीय जलमार्ग प्राधिकरण द्वारा विकसित किया जा रहा है, को छोड़कर इस क्षेत्र की अपेक्षाकृत छोटी नदियों में भी जलमार्ग के रूप में विकसित किये जाने की अपार संभावनाएं हैं । इसलिए इस क्षेत्र में जलमार्गों की संभावना का पता लगाना आवश्यक हो गया है ताकि जलमार्ग विकास, नौचालन संबंधी सहायता, टर्मिनल संबंधी सुविधाएं आदि विकसित की जा सके । जलमार्गों के एकीकृत विकास से पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिए जलमार्ग ग्रिड का निर्माण हो सकता है जो भविष्य में कार्गो यातायात को सड़क यातायात की तुलना में सस्ते और पर्यावरण अनुकूल अंतर्देशीय जलमार्ग से जोड़ा जा सकता है ।

 

देखने के लिए नीचे क्लिक करें:

 

 

Page Maintained By: 
श्री उदय शंकर, निदेशक

बुनियादी ढांचे

सामान्य