Print

जल विद्युत परियोजनाएं

(स्रोत: विद्युत मंत्रालय)

 

उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में अदोहित जल विद्युत क्षमता के दोहन के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदम/किए गए उपाय

 

उत्तर पूर्वी क्षेत्र में शेष जल विद्युत क्षमता के विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा किए गए उपाय/उठाए गए कदमों पर नीचे चर्चा की गई है:

 

क. नीति साधन:

  1. जल विद्युत विकास, 2008 संबंधी नीति भारत सरकार द्वारा 31.03.2008 को अधिसूचित की गई थी जिसका उद्देश्य निजी विकासकर्ताओं के लिए समान परिस्थितियां उपलब्ध कराना और निजी विकासकों के लिए कार्य स्थल उपलब्ध कराने हेतु पारदर्शी चयन मानदंड भी उपलब्ध कराने और बिक्री योग्य ऊर्जा के अधिकतम 40 प्रतिशत की वाणिज्यिक बिक्री का प्रावधान करना है । जल विद्युत विकास, 2008 संबंधी उपर्युक्त नीति की कुछ धाराएं नीचे दी गई हैं जो कि हाल ही में संशोधित की गई हैं :

     

    1. i. लागत एवं प्रशुल्क क्षेत्र (जिसमें विद्युत अधिनियम, 2003 की धारा 62 के अंतर्गत नियामक द्वारा प्रशुल्क निर्धारित किया जाना है) जनता एवं निजी जल विद्युत परियोजनाओं के लिए भी दिसंबर, 2015 तक विस्तारित कर दिया गया है ।
    2. ii. परियोजनाओं विकासकर्ताओं (जनता और निजी क्षेत्र के जल विद्युत विकासकर्ताओं) को समर्थ बनाने के क्रम में उपरोक्त पैरा 4 में उल्लेख अनुसार परियोजना कार्य स्थल प्राप्त करने में उनके द्वारा वहन की गई लागत को प्राप्त करने के लिए उन्हें बिक्री योग्य ऊर्जा के अधिकतम 40 प्रतिशत की वाणिज्यिक बिक्री के माध्यम से विशेष प्रोत्साहन दिए जाने की अनुमति होगी । तथापि जो परियोजनाएं नियम समय पर पूरी नहीं होंगी उनके मामले में चरणबद्ध ढंग से वाणिज्यिक बिक्री प्रोत्साहन समाप्त हो जाएगा । इन परियोजनाओं की समय पर पूर्णता सुनिश्चित करने के लिए चालू होने की तिथि से प्रत्येक छह महीने के विलंब के लिए वाणिज्यिक बिक्री में 5 प्रतिशत की कमी हो जाएगी । यह शर्त उपयुक्त नियामक द्वारा विधिवत वार्षिक नियत प्रभार तद्नुसार जमा करके लागू की जाएगी ।
  1. राष्ट्रीय जल नीति भारत सरकार द्वारा पहले वर्ष 2002 में अधिसूचित की गई थी जिसमें यह निर्धारित किया गया था कि नियोजन एवं प्रचालन प्रणाली में जल आबंटन प्राथमिकता पेयजल, सिंचाई, जल विद्युत पारिस्थितिकी, कृषि उद्योग और गैर-कृषि उद्योग और नौचालन और अन्य उपयोगों पर व्यापक रूप से केंद्रित होनी चाहिए । इस नीति में संशोधन प्रस्तावित किया जा रहा है । इस उद्देश्य के लिए सरकार ने राष्ट्रीय जल नीति, 2012 का एक मसौदा तैयार किया है ।
  2. मेगा विद्युत परियोजनाओं संबंधी नीति संशोधित की गई है जिसके अनुसार मेगा परियोजना के लाभों को प्राप्त करने के लिए ताप विद्युत संयंत्रों की न्यूनतम अर्हक क्षमता कुछ विशेष श्रेणी राज्यों- जम्मू एवं कश्मीर, सिक्किम और उत्तर पूर्व के सात राज्यों में तदंतर जम्मू और कश्मीर तथा सिक्किम और उत्तर पूर्व के सात राज्यों में स्थित जल विद्युत संयंत्रों के लिए मेगा लाभ प्राप्त करने के लिए थ्रेशहोल्ड अर्हक क्षमता 500 मेवा से घटाकर 350 मेवा कर दी गई है । 1000 मेवा से घटाकर 700 मेवा कर दी गई है ।
  3. अंतर्मंत्रालयी समूह का गठन (आईएमजी)
    अंतर्मंत्रालयी समूह का गठन (आईएमजी) जल संसाधन मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश पर जल संसाधन मंत्री की अध्यक्षता में 7 अगस्त, 2009 को किया गया था जिसका उद्देश्य उत्तर पूर्व में जल विद्युत परियोजनाओं का त्वरित विकास और मार्गदर्शन के लिए उपयुक्त ढांचा उपलब्ध कराना है । इस समिति में विद्युत मंत्रालय का भी प्रतिनिधित्व था । इस दल ने अपनी फरवरी, 2010 में प्रस्तुत रिपोर्ट में उत्तर पूर्वी क्षेत्र में जल विद्युत परियोजनाओं के तेजी से विकास में कुछ मुख्य मुद्दों एवं बाधाओं जैसे वनारोपण से जुड़े मुद्दे सहित पर्यावरण एवं वन स्वीकृति, पुलों पर सड़क निर्माण विद्यमान सड़कों का सुदृढ़ीकरण कुशल एवं विश्वसनीय दूरसंचार संपर्क बेहतर सड़क परिवहन/वायुयान सेवाओं आदि जैसी अवंरचनात्मक सुविधाओं की आवश्यकता जल विद्युतीय एवं अन्य आंकड़ों की अनुपलब्धता, जल विद्युत विकास, असम के नतोदर धारा क्षेत्रों में अरुणाचल प्रदेश में जल विद्युत विकास के बेहतर प्रभाव, दक्ष मानव क्षमता की अनुपलब्धता विद्युत खपत से जुड़ी वित्तपोषण व्यवस्था और समस्याओं आदि का पता लगाया और नीतिगत हस्तक्षेप प्रस्तावित किए ।
  4. माननीय विद्युत मंत्री की अध्यक्षता में एक कार्य बल का गठन किया गया है । इस बल के अन्य सदस्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष , जल संसाधन मंत्री, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री, पर्यावरण एवं वन मंत्री और जल विद्युत संपन्न राज्यों के विद्युत मंत्री हैं । इस बल का उद्देश्य जल विद्युत के विकास से संबंधित सभी मुद्दों को देखना है ।

ख. परियोजनाओं की समय पर पूर्णता के लिए अन्य उपाय:

 

उपरोक्त नीतिगत उपायों के अतिरिक्त, 11वीं एवं 12वीं योजना अवधि के दौरान लाभ प्राप्त करने के लिए इस समय निर्माणाधीन परियोजनाओं की समय पर पूर्णता सुनिश्चित करने के लिए किए गए अन्य उपाय निम्नवत हैं:

  1. चल रही जल विद्युत परियोजाओं का मानिटरन :

     

    1. सलाहकार समूह:

       

      चल रही विद्युत उत्पादन परियोजनाओं के तेजी से पूर्ण होने के संबंध में सलाह देने के लिए विद्युत मंत्री की अध्यक्षता में एक सलाहकार समूह का गठन किया गया है ।

    2. विशेष मॉनिटरिंग समूह:

       

      जम्मू और कश्मीर तथा उत्तर पूर्वी क्षेत्र के लिए वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिए विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने और उनका समाधान तलाशने के लिए सचिव, विद्युत की अध्यक्षता में एक विशेष मॉनिटरिंग समूह का गठन किया गया है ।

    3. निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति की मॉनिटरिंग के लिए निम्नलिखित तंत्र विद्यमान है:

       

      • केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण बिजली अधिनियम, 2003 (73एफ) के अनुसरण में दायित्वों का निष्पादन (विद्युत परियोजनाओं का मॉनिटरन) कर रहा है । प्रत्येक परियोजना की प्रगति बार-बार कार्य स्थल दौरे विकासकर्ताओं के साथ संपर्क और मासिक प्रगति प्रतिवेदनों के गंभीर अध्ययन के माध्यम से मॉनिटर की जाती है । अध्यक्ष, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण महत्वपूर्ण मुद्दों के समाधान के लिए विकासकर्ताओं और पणधारियों के साथ समीक्षा करते हैं ।
      • विद्युत मंत्रालय द्वारा जल विद्युत परियोजनाओं की प्रगति की स्वतंत्र जांच और मॉनिटरन के लिए एक विद्युत परियोजना मॉनिटरन पैनल (पीपीएमपी) स्थापित किया गया है ।
      • मंत्रालय द्वारा केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के संबंधित अधिकारियों, उपस्कर विनिर्माताओं राज्य प्रयोक्ताओं / सीपीएसयू/परियोजना विकासकर्ताओं आदि के साथ नियमित रूप से समीक्षा बैठकें आदि की जाती हैं ।
  2. भावी जल विद्युत परियोजनाओं का मॉनिटरन :यथा उपरोलिखित माननीय विद्युत मंत्री की अध्यक्षता में गठित कार्य बल के अतिरिक्त विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने, पर्यावरण एवं वन स्वीकृति की स्थिति, आर्डर देने की संभावित तिथि आदि जैसे मुद्दों पर विभिन्न विकासकों को आबंटित भावी जल विद्युत परियोजनाओं की स्थिति की समीक्षा के लिए अध्यक्ष केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण द्वारा नियमित रूप से बैठकें ली जाती हैं ।

विस्तृत विवरण के लिए नीचे देखें:

 

 

 

पूर्वोत्तर क्षेत्र और सिक्किम में निर्माणाधीन जल विद्युत परियोजना

 

(स्रोत: विद्युत मंत्रालय)

(मार्च, 2012 के अनुसार)

 

क्र. सं. परियोजना राज्य क्षमता
(सं.x मेगावाट)
खपत क्षमता (मे .वा .)  
केंद्रीय क्षेत्र
1. सुबनसिरी निचली ( एनएचपीसी ) अरुणाचल प्रदेश 8x250 2000 2016-17
2. कामेंग ( एनईईपीसीओ ) अरुणाचल प्रदेश 4x150 600 2016-17
3. पारे ( एनईईपीसीओ ) अरुणाचल प्रदेश 2x55 110 2014-15
4. तुइरिआल ( एनईईपीसीओ ) मिजोरम 2x30 60 2015-16
  उप - जोड़ ( केंद्रीय क्षेत्र ):     2770  
राज्य क्षेत्र
5. मिंटडु * मेघालय 2x42+1x42 126 2011-13
6. न्यु उमतरु मेघालय 2x20 40 2014-15
  उप - जोड़ ( राज्य क्षेत्र ):     166  
निजी क्षेत्र
7. चुजाचेन सिक्किम 2x49.5 99 2013-14
8. तीस्ता स्टेशन चरण III सिक्किम 6x200 1200 2013-15
9. तीस्ता स्टेशन चरण VI सिक्किम 4x125 500 2015-16
10. रंगिट -IV सिक्किम 3x40 120 2014-15
11. जोरेथांग लूप सिक्किम 2x48 96 2014-15
12. भस्मे सिक्किम 3x17 51 2014-15
13. ताशिडिंग सिक्किम 2x48.5 97 2014-15
14. डिक्चु सिक्किम 3x32 96 2015-16
15. रैंगिट -II सिक्किम 2x33 66 2016-17
16. रोंगनिचु सिक्किम 2x48 96 2015-16
  उप - कुल
(निजी क्षेत्र):
    2421  
  कुल :     5357  
   
उपरोक्त के अतिरिक्त, निजी क्षेत्र में एडीपीपीएल द्वारा क्रियान्वित अरुणाचल प्रदेश में निचली देमवे जल विद्युत परियोजना (5x342+1x40 = 1750 मे.वा.) के लिए ईपीसी कॉन्टेक्ट दिया जा चुका है लेकिन वन संबंधी स्वीकृति लंबित होने के कारण कार्य शुरू नहीं हो सका है ।
* एक इकाई नवंबर, 2011 में चालू

 

 

 

अरुणाचल प्रदेश में जल विद्युत विकास

 

(स्रोत: अरुणाचल प्रदेश सरकार)

(अप्रैल, 2012 के अनुसार)

  1. अरुणाचल प्रदेश सरकार को अभी तक कुल प्रतिष्ठापित क्षमता 41500 मे.वा. वाली लगभग 140 जल विद्युत परियोजनाएं आबंटित की गई हैं जिन्हें विभिन्न नदियों जल धाराओं और सात मुख्य नदी बेसिनों में नालों पर विकसित किया जाना है :

     

    1. तवांग
    2. कामेंग
    3. दिकरोंग
    4. सुबनसिरी
    5. सियांग
    6. दिबांग
    7. लोहित
  2. स्थिति:

     

    1. 100 मे.वा. से अधिक क्षमता वाली 44 इकाइयों में से प्रत्येक लगभग 37,000 मे.वा. (कुल आबंटित क्षमता का 90 प्रतिशत)
    2. पको द्वारा क्रियान्वित एक चालू और चल रही है- रंगानदी (405 मे.वा.)
    3. निर्माणाधीन- निचली सुबनसिरी (2000मे.वा.), कामेंग (600मे.वा.) और पारे (110 मे.वा.)
    4. 9 परियोजनाएं (10575मे.वा.) – तकनीकी आर्थिक स्वीकृति जारी
    5. 12 परियोजनापएं (11202मे.वा.) – विस्तृत परियोजना रिपोर्ट केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण को प्रस्तुत
    6. लगभग 50 परियोजनाएं 25 मे.वा. से 100 मे.वा. क्षमता की हैं ।
    7. अन्य 50 परियोजनाएं अनुमानतः 25 मे.वाट से कम क्षमता वाली हैं (आबंटित क्षमता का लगभग 10 प्रतिशत)
  3. इन सभी परियोजनाओं के क्रियान्वयन पहलुओं की समीक्षा राज्य सरकार नियमित रूप से तिमाही समीक्षा करती है । इन समीक्षा बैठकों में केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण, केंद्रीय जल आयोग, जल संसाधन मंत्रालय और भारतीय पावर ग्रीड कार्पोरेशन लि. के वरिष्ठ अधिकारी भी आमंत्रित किए जाते हैं । इन बैठकों में प्रगति की समीक्षा के अलावा केंद्रीय सरकार और राज्य सरकार के संगठनों से विभिन्न स्वीकृतियों से संबंधित मुद्दे भी अभिज्ञात किए जाते हैं । इन परियोजनाओं के मार्ग में आने वाली अन्य बाधाओं/ आने वाली संभावित बाधाओं को भी ध्यान में रखा जाता है और इन पर काबू पाने के लिए विद्युत विकासकर्ताओं को सहायता प्रदान की जाती हैं ।
  4. राज्य स्तरीय स्वीकृतियों के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक एकल खिड़की स्वीकृति समिति गठित की गई है जिसकी नियमित रूप से बैठकें होती हैं और यथासंभव न्यूनतम समय में मामलों को स्वीकृति प्रदान की जाती है ।
  5. इन सभी स्थापित तंत्रों के परिणामस्वरूप परियोजनाएं अपने क्रियान्वयन की अग्रिम स्थिति में है । पर्यावरण एवं वन स्वीकृति में असीम विलंब है ।

 

 

अरुणाचल प्रदेश में जल विद्युत परियोजनाओं के विकास की स्थिति

 

(उपरोकत 25 मे.वा. क्षमता और निर्माण के लिए अभी प्राप्त की जाने वाली क्षमता)

 

(जनवरी, 2010 के अनुसार)

 

क्र. सं. परियोजना बेसिन एजेंसी विद्यमान प्रतिष्ठापित क्षमता (मे.वा.) समझौता ज्ञापन की तिथि चालू होने का वर्ष विद्यमान स्थिति
केंद्रीय
1. तवांग -I तवांग एनएचपीसी 750 24.06.2007 2016-17 अक्तूबर, 2009 में प्रस्तुत वि.प.रि. स्वीकृति के लिए के.वि.प्रा./के.ज.आ. में जांच के अधीन है और मार्च, 2010 तक स्वीकृत कर दी जाएगी ।
2. तवांग -II तवांग एनएचपीसी 1000 24.06.2007 2016-17 प्र.क्ष.=750 मे.वा. के साथ परियोजना आबंटित । 1000 मे.वा. के लिए जुलाई, 2009 में प्रस्तुत वि.प.रि. की के.वि.प्रा./.के.ज.आ. में  जांच की जा रही है और मार्च, 2010 तक स्वीकृति दी जाएगी ।
3. कामेंग -I कामेंग नीपको 1120 21.09.2006 सित. 2017. अरुणाचल प्रदेश सरकार के वन्य जीव एवं जैव विविधता विभाग ने पक्कल टाइगर रिजर्व में वन भूमि के व्यपवर्तन संबंधी प्रस्ताव पर माननीय उच्चतम न्यायालय की अनुमति से पूर्व कार्रवाई करने में असमर्थता व्यक्त की है निपको द्वारा एस एंड आई कार्य करने के लिए मामले को माननीय उच्चतम न्यायालय में उठाया जाएगा । इस कार्य को मार्च, 2010 तक स्वीकृत किया जाएगा
4. दिबांग दिबांग एनएचपीसी 3000 24/6/2007 2020-21 के.वि.प्रा.
द्वारा जनवरी, 2008 में स्वीकृति प्रदान कर दी गई है । पर्यावरण एवं वन संबंधी स्वीकृति मार्च, 2011 तक प्राप्त की जाएगी ।
  राज्य / अनाबंटित            
5. कपाकलेयक कमेंग अभी निर्णय लिया जाना है । 160   अभी आबंटित किया जाना है । मुश्किल पहुंच
6. नाबा सुबनसिरी अभी निर्णय लिया जाना है । 1000   अभी आबंटित किया जाना है । अभी आबंटित किया जाना है।
7. नियारे सुबनसिरी अभी निर्णय लिया जाना है । 800   अभी आबंटित किया जाना है । अभी आबंटित किया जाना है।
8. ओजु -II सुबनसिरी अभी निर्णय लिया जाना है । 1000   अभी आबंटित किया जाना है । अभी आबंटित किया जाना है।
9. ओजु -I सुबनसिरी अभी निर्णय लिया जाना है । 700   अभी आबंटित किया जाना है । अभी आबंटित किया जाना है।
10. सियांग ऊपरी और मध्यम सियांग अभी निर्णय लिया जाना है । 11000   अभी आबंटित किया जाना है । महत्वपूर्ण शहरों को डूबने से बचाने के लिए  ऊपरी सियांग (6000 मे.वा.) और चरण-2 3750 मे.वा. के लिए एनटीपीसी द्वारा व्यवहार्यता रिपोर्ट तैयार की गई । इसके क्रियान्वयन के लिए राज्य अभी आबंटित किया जाना है । 
11. जिआधाल जियाधाल ब्रह्मपुत्र बोर्ड 75   अभी आबंटित किया जाना है । वि.प.रि. संभवतः मार्च, 2012 तक
12. नोआ दिहिंग नोआ दिहिंग ब्रह्मपुत्र बोर्ड 50   अभी आबंटित किया जाना है । वि.प.रि. संभवतः मार्च, 2012 तक राष्ट्रीय परियोजना के रूप में घोषित
निजी
13. निकचारोंगचु तवांग एसईडब्ल्यू ऊर्जा लि. 96 21-02-2008 2015-16 एस और आई प्रगति पर । वि.प.रि. संभवतः 4/ 2010 तक
14. मागो चु तवांग एसईडब्ल्यू ऊर्जा लि. 96 27-10-2006 2015-16 एस और आई प्रगति पर । वि.प.रि. संभवतः 4/ 2010 तक
15. न्यामजुंगचु तवांग भिलवारा ऊर्जा लि. 900 27-10-2006 2014-15  न्यामजुंगचु-I (98 मे.वा.) न्यामजुंगचु -II (97 मे.वा.) न्यामजुंगचु -III (95 मे.वा.). के रूप में परियोजनाएं आबंटित । वि.प.रि. –संयुक्त न्यामजुंगचु परियोजना 900 मे.वा. जून, 2009 में के.वि.प्रा. को प्रस्तुत और 28.08.2009 से जांच के अधीन । ईआईए के अध्ययन के लिए टीओआर अनुमोदित वि.प.रि. संभवतः मार्च, 10 तक स्वीकृत 
        27-10-2006 2014-15
        2/3/2009 2014-15
16. रहो तवांग एसईडब्ल्यू ऊर्जा लि. 60 2/3/2009 2016-17 एस और आई प्रगति पर । वि.प.रि. संभवतः 5/ 2011 तक
17. न्यू मेलिंग   एसईडब्ल्यू ऊर्जा लि. 60 10/1/2009 2016-17 एस और आई प्रगति पर । वि.प.रि. संभवतः 4/ 2010 तक
18. तसा - चू - II कमेंग ऊर्जा डेवलपमेंट कंपनी लि. 36 10/1/2009 2013-14 एस और आई प्रगति पर । वि.प.रि. प्रगति  पर
19. केमेंग डैम (बाना) कमेंग केएसके इलैक्ट्रीसिटी फाइनेसिंग इंडिया प्र. लि. 480 25-01-2007 Mar., 2017 600 मे.वा. के लिए परियोजना आबंटित एस एंड आई प्रगति पर क्षमता 480 मे.वा. कम । वि.प.रि. संभवतः
20. बड़ेऊ कमेंग कोस्टल प्रोजेक्टस प्रा. लि. 70 19-11-2008 2016-17 राज्य सरकार को पीएफआर प्रस्तुत
21. रेब्बी कमेंग कोस्टल प्रोजेक्टस प्रा. लि. 31 19-11-2008 2016-17 एस एंड आई के लिए पीएफआर की तैयारी प्रगति पर है ।
22. पारा कमेंग कोस्टल प्रोजेक्टस प्रा. लि. 55 19-11-2008 2016-17 एस एंड आई के लिए पीएफआर की तैयारी प्रगति पर है।
23. तालोंग कमेंग जीएमआर एनर्जी लि. 225 24-01-2007 2015-16 प्रारंभ में यह परियोजना 160 मेगावाट के लिए टालोंग के रूप में निपको को आबंटित की गई थी । लोंडा एचईपी की वि.प.रि. अक्तूबर, 2008 में प्रस्तुत और स्तर मैच न होने के कारण दिसंबर 2008 में वापस ।
24. लाचुंग कमेंग कोस्टल प्रोजेक्टस प्रा. लि. 41 19-11-2008 2016-17 एस एंड आई के लिए पीएफआर की तैयारी प्रगति पर है।
25. फनचुंग कमेंग इंडियाबुल रियल एस्टेट लि. 60 25-10-2007 अक्तूबर,2014 वि.प.रि. राज्य को प्रस्तुत और मार्च 2010 तक स्वीकृत की जाएगी ।
26. डिब्बिन कमेंग केएसके इलैक्ट्रिसिटी फाइनेंसिंग इंडिया प्रा.लि. 120 25-01-2007 2014-15  परियोजना प्र.श.-125 मेगावाट के लिए आबंटित जिसे 120 मेगावाट के लिए संशोधित किया गया है, के.वि.प्रा. द्वारा 04.12.2009 तक वि.प्र.रि. स्वीकृत की जाएगी ।
27. पिचेंग कमेंग इंडियाबुल रियल एस्टेट  लि. 31 25-10-2007 अक्तूबर.,2014 वि.प.रि. राज्य को प्रस्तुत और मार्च 2010 तक स्वीकृत की जाएगी ।
28. तारंग वारंग कमेंग इंडियाबुल रियल एस्टेट  लि. 30 25-10-2007 Oct.,2014 वि.प.रि. राज्य को प्रस्तुत और मार्च 2010 तक स्वीकृत की जाएगी ।
29. सेपला कमेंग इंडियाबुल रियल एस्टेट  लि. 46 25-10-2007 अक्तूबर.,2014 वि.प.रि. राज्य को प्रस्तुत और मार्च 2010 तक स्वीकृत की जाएगी ।
30. पापू कमेंग इंडियाबुल रियल एस्टेट  लि. 90 9/1/2009 12वीं योजना के बाद एस एंड आई के अधीन
31. जामेरी कमेंग केएसके ऊर्जा वेंचर्स प्रा. लि. 50 27/12/2007 मार्च-16 वि.प.रि. संभवतः 07/11 तक
32. नाफरा कमेंग एसईडब्ल्यू ऊर्जा लि. 96 14/9/2007 2015-16 वि.प.रि. जुलाई 09 में के.वि.प्र. को प्रस्तुत, अक्तूबर, 09 में वापस, जल विज्ञान सिविल डिजाइन स्थापित क्षमता की समीक्षा की आवश्यकता ।
33. पचूक -I कमेंग एनर्जी डेवलपमेंट कंपनी लि. 60 12/1/2008 जनवरी. 2016 सर्वेक्षण एवं जांच के अधीन
34. पचूक -II कमेंग एनर्जी डेवलपमेंट कंपनी लि. 60 12/1/2008 जनवरी. 2016 सर्वेक्षण एवं जांच के अधीन
35. माजिंगला कमेंग एनर्जी डेवलपमेंट कंपनी लि. 60 12/1/2008 जनवरी. 2016 सर्वेक्षण एवं जांच के अधीन
36. पापू वैली कमेंग वनसार कंस्ट्रक्शन कंपनी लि. 35 25/11/2008 12वीं योजना के बाद एस एंड आई के अधीन
37. कमेंग - II (भाराली-II) कमेंग माउंटेन फाल इंडिया प्रा.लि. 600 23-11-2006 2018-19 वि.प.रि. संभवतः मार्च, 2010 तक
38. गोंगरी कमेंग पटेल इंजीनियरिंग लि. 90 18-05-2007 May 2017 अक्तूबर 2009 में के.वि.प्र. को प्रस्तुत वि.प.रि. के.वि.प्र./के.ज.आ. में जांच के अधीन
39. उत्तुंग कमेंग केएसके ऊर्जा वेंचर्स प्रा. लि. 100 11/9/2007 2016-17 एस एंड आई 12/10 तक ली जानी है । वि.प.रि . 12/12 तक
40. नाजोंग कमेंग केएसके ऊर्जा वेंचर्स प्रा. लि. 60 11/9/2007 2016-17 एस एंड आई 12/10 तक ली जानी है । वि.प.रि . 12/12 तक
41. खुइताम कमेंग आदिशंकर पॉवर प्रा.लि. 29 12/6/2007 Jun,2017 वि.प.रि. प्रस्तुत और जांच के अधीन
42. दिनचांग कमेंग केएसके ऊर्जा वेंचर्स प्रा. लि. 90 11/9/2007 मार्च, 2017 एस एंड आई 12/9 तक ली जानी है । वि.प.रि . 12/11 तक
43. सासकोंगरोंग कमेंग पटेल इंजीनियरिंग लि. 30   2014-15 एस एंड आई प्रगति पर
44. पार डिक्रोंग केवीके एनर्जी एंड इन्फ्रास्क्ट्रक्चर लि. 65 26-12-2007 2015-16 वि.प.रि. संभवतः जल्द ही, ईआईए अध्ययन प्रगति पर
45. दारदू डिक्रोंग केवीके एनर्जी एंड इन्फ्रास्क्ट्रक्चर लि. 60 26-12-2007 2015-16 वि.प.रि. संभवतः जल्द ही, ईआईए अध्ययन प्रगति पर
46. Panyor डिक्रोंग राजरत्ना र्र्घी होल्डिंगस प्रा. लि. 80 25-02-2009 फरवरी 2015 एस एंड आई प्रगति पर
47. तुरु डिक्रोंग ईसीआई इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्र. कं. लि. 90 21-06-2007 2016-17 वि.प.रि. संभवतः जल्द ही ।
48. सुबनसिरी मिडिल सुबनसिरी जिंदल पॉवर लि. 1600 29/08/2009 अक्तूबर2018 वि.प.रि. संभवतः 4/12 तक
49. जेरांग सियांग सीईएससी लि. 90 25-11-2008 12वीं योजना के बाद विकासकर्ता से एस एंड आई रिपोर्ट प्राप्त होनी है।
50. सिमंग -I सियांग आदिशंकर पावर प्रा. लि. 67 6/2/2008 फरवरी 2016 सिमांग-I (67 मे.वा.),  सिमांग-II (39 मे.वा.) और सिमांग-III (44 मे.वा.). के रूप में परियोजना आबंटित । 67 मे.वा. और 66 मे.वा. के दो चरणों में विकसित की जानी है । पीएफआर तैयार और अरुणाचल प्रदेश सरकार को प्रस्तुत
51. सिमंग -II सियांग आदिशंकर पावर प्रा. लि. 66 6/2/2008 फरवरी 2016
    सियांग आदिशंकर पावर प्रा. लि. 44 6/2/2008 फरवरी 2016
52. बारपु ( पेमाशेलपु ) सियांग राजरत्न मेटल इंडस्ट्री 70 27-12-2007 2015-16 वि.प.रि. संभवतः जल्द ही ।
53. कांगतांगसिरी सियांग राजरत्न मेटल इंडस्ट्री 35 27-12-2007 2015-16 वि.प.रि. संभवतः जल्द ही ।
54. रुपुम सियांग राजरत्न मेटल इंडस्ट्री 45 27-12-2007 2015-16 प्र.क्ष.-40 मे.वा. के लिए परियोजना आबंटित स्तरों को अंतिम रूप दिया गया । प्र.क्ष.=45 मे.वा. के लिए वि.प.रि. संभवतः जल्दी ही ।
55. रेगो सियांग टफ पावर प्रा. लि. 141 27-12-2007 2015-16 आईसी के लिए आबंटित परियोजना =70 मे.वा. । आईसी=141 के लिए डीपीआर  2/'10 तक संभावित ।
56. यमने चरण -I सियांग यमने पावर प्रा. लि. 60 5/3/2008 अगस्त,2015 डीपीआर  अप्रैल 2010 तक संभावित
57. यमने चरण -II सियांग यमने पावर प्रा. लि. 60 5/3/2008 अगस्त,2015 डीपीआर  अप्रैल 2010 तक संभावित
58. निचला यमने चरण -I सियांग यमने पावर प्रा. लि. 50 29-11-2008 2015-16 एस और आई प्रगति पर
59. निचला यमने चरण -II सियांग यमने पावर प्रा. लि. 40 29-11-2008 2015-16 एस और आई प्रगति पर
60. तागुरसिट सियांग एल एंड टी पावर लि. 60 23-12-2008 दिसंबर, 2017 एस और आई प्रगति पर
61. टाटो -II सियांग टाटो हाइड्रो पावर प्रा. लि. (रिलायंस एनर्जी लि.) 700 22-02-2006 2016-17 मई में 09 में सौंपा गया  डीपीआर अपर्याप्त भू-विज्ञान संबंधी निरीक्षण बांध स्थल के लिए नये जगह की संभावना  तलाशने, डेजिल्टिंग चैंबर के प्रावधान करने और परियोजना के उच्च लागत/ टैरिफ की समीक्षा के कारण  04.09.09 को सीईए द्वारा लौटा दिया गया ।
62. नइंग सियांग डी.एस. कंस्ट्रक्शन लि. 1000 22-02-2006 2017-18 डीपीआर 2010 तक संभावित
63. निचला सियांग सियांग जयप्रकाश एसोशिएट्स लि. 2700 22-02-2006 मार्च 2015 (1500 मे.वा.) 2018-19 (1200 मे.वा.) आईसी के लिए आबंटित परियोजना =1600 मे.वा.. Revised DPR for  2700 मे.वा. के लिए संशोधित डीपीआर अगस्त, 2009 में सौंपा गया।   15.12.2009 को सहमति बैठक आयोजित ।   मंजूरी पत्र जारी होने वाला है ।
64. सियोम ( सियांग मध्य ) सियांग सियोम हाइड्रो पावर प्रा. लि. (रिलायंस एनर्जी लि.) 1000 22-02-2006 2017-18 डीपीआर 12/'09 तक संभावित.
65. पॉक सियांग वेलकन एनर्जी लि. 120 30-06-2007 (संशोधित एमओए-31-07-09) 2016 आईसी के लिए आबंटित परियोजना =50 मे.वा. स्तरीय हस्तक्षेप मुद्दे के संकल्प के बाद जुलाई, 09 में आईसी को संशोधित कर 120 मे.वा. कर दिया गया ।  डीपीआर दिसंबर, 2010 में संभावित  ।
66. हेओ सियांग वेलकन एनर्जी लि. 210 30-06-2007 (संशोधित एमओए-31-07-09) 2016 आईसी के लिए आबंटित परियोजना =90 मे.वा. स्तरीय हस्तक्षेप मुद्दे के संकल्प के बाद जुलाई, 09 में आईसी को संशोधित कर 210 मे.वा. कर दिया गया ।  डीपीआर सितंबर, 2010 में संभावित  ।
67. हिरोंग सियांग जयप्रकाश एसोशिएट्स लि. 500 22-02-2006 फरवरी, 2018 एस एंड आई के अधीन  डीपीआर 12/09 तक तैयार हो जाने की संभावना ।
68. टाटो -l सियांग वेलकन एनर्जी लि. 170 30-06-2007 (संशोधित एमओए-31-07-09) 2016 आईसी के लिए आबंटित परियोजना =80 मे.वा. स्तरीय हस्तक्षेप मुद्दे के संकल्प के बाद जुलाई, 09 में आईसी को संशोधित कर 170 मे.वा. कर दिया गया ।  एफआर तैयार किया जा रहा है । डीपीआर सितंबर, 2010 तक संभावित ।
69. हिरिट सियांग वेलकन एनर्जी लि. 28 30-06-2007 जून 2017 आईसी के लिए आबंटित परियोजना =84 मे.वा.. आईसी को 28 मे.वा. तक संशोधित किया जा रहा है । भू-विज्ञान संबंधी मुद्दों का सामना किया जा रहा है । 
70. इमिनी दिबांग इमिनी हाइड्रो पावार प्रा.लि. (रिलायंस एनर्जी लि.) 500 2/3/2009 2019-20 डीपीआर मार्च, 2012 तक संभावित।
71. मिहुमडॉन दिबांग मिहुमडॉन हाइड्रो पावर प्रा. लि.  (रिलायंस एनर्जी लि.) 400 2/3/2009 2019-20 डीपीआर मार्च, 2012 तक संभावित।
72. सिस्सिरी दिबांग सोमा सिस्सिरी हाइड्रो प्रा. लि. (सोमा इंटरप्राइज लि.) 222 18-01-2008 दिसंबर, 2017 DPR जनवरी, 2010 में प्रस्तुत और सीईए/सीडब्ल्यूसी में निरीक्षणाधीन । डीपीआर की निकासी मई, 2010 तक हो सकती है ।
73. एमरा -II दिबांग एथेना एनर्जी वेंचर 390 2/2/2008 जनवरी 2018 एस और आई के अधीन
74. एमुलिन दिबांग एमुलिन हाइड्रो पावर प्रा. लि. (रिलायंस एनर्जी लि.) 420 2/3/2009 2019-20 डीपीआर मार्च, 2012 तक संभावित।
75. एमरा -l दिबांग एथेना एनर्जी वेंचर 275 2/2/2008 जनवरी 2018 एस और आई के अधीन
76. एटालिन दिबांग जिंदल पावर लि. (एचपीडीसीएपीएल के साथ जेवी) – इटालिन एच.ई. पावर नि. लि. 4000 8/12/2008 मार्च, 2020 डीपीआर मार्च, 2012 तक संभावित। ईआईए की 2006 की अधिसूचना के प्रावधानों के अनुसार पर्यावरण और वन मंत्रालय ने नवंबर, 2009 में  निर्माण पूर्व क्रियाकलापों के लिए मंजूरी दे दी थी ।
77. अट्टुनलि दिबांग जिंदल पावर लि. (एचपीडीसीएपीएल के साथ जेवी) – अट्टुनलि एच.ई. पावर नि. लि. 500 8/12/2008 मार्च, 2018 डीपीआर मार्च, 2012 तक संभावित । ईआईए की 2006 की अधिसूचना के प्रावधानों के अनुसार पर्यावरण और वन मंत्रालय ने नवंबर, 2009 में  निर्माण पूर्व क्रियाकलापों के लिए मंजूरी दे दी थी ।
78. गिमिलियांग लोहित साई कृष्णोदय इंडस्ट्रीज (प्रा.) लि.  99 26-02-2009 फरवरी 2017 एस और आई प्रगति पर
79. रैगम लोहित साई कृष्णोदय इंडस्ट्रीज (प्रा.) लि.  96 27-12-2007 2012-13 पीएफआर प्रस्तुत
80. टिडिंग -I लोहित साई कृष्णोदय इंडस्ट्रीज (प्रा.) लि.  98 12/12/2007 फरवरी 2017 एस और आई के अधीन
81. कलाई -II लोहित कलाई पावर प्रा. लि. (रिलायंस एनर्जी लि.) 1200 2/3/2009 2018-19 डीपीआर 12/'11 तक संभावित ।
82. हुटोंग - II लोहित माउंटेन फॉल इंडिया प्रा. 1250 23-11-2006 नवंबर, 2018 डीपीआर 04/'10 तक संभावित ।
83. टिडिंग -II लोहित साई कृष्णोदय 68 26-02-2009 फरवरी, 2017 एस और आई के अधीन
84. कलाई -I लोहित माउंटेन फॉल इंडिया प्रा. 1450 23-11-2006 नवंबर, 2018 डीपीआर 07/'10 तक संभावित ।
85. देमवे ( निचला ) लोहित एथेना एनर्जी वेंचर 1750 9/7/2007 2016-17 (देमवे निचला) परियोजना आईसी =3000 मे.वा के साथ देमवे को आबंटित ।  इसे दो स्कीमों नामतः देमवे निचला (1750 मे.वा.) और  देमवे ऊपरी (1800 मे.वा.)के रूप में विकसित किया जा रहा है । देमवे निचले के लिए डीपीआर अगस्त, 2009 में प्रस्तुत और 20.11.2009 को सहमति प्रदान की गई।
86. देमवे ( ऊपरी ) लोहित एथेना एनर्जी वेंचर 1800 9/8/2007 जुलाई 2018 देमवे ऊपरी के लिए डीपीआर मार्च, 2010 तक तैयार किया जाना है ।
 

कुल ( अरुणाचल प्रदेश ):

केंद्रीय 5870 मे.वा. 4 स्कीमें  
      राज्य 14785 मे.वा. 8 स्कीमें  
      निजी 27512 मे.वा. 74 स्कीमें  
      कुल : 48167 मे.वा. 86 स्कीमें  

 

Page Maintained By: 
श्री उदय शंकर, निदेशक

बुनियादी ढांचे

सामान्य